गुरुवार, 30 दिसंबर 2010

धान खरीदी मुद्दे पर कांग्रेस करेगी 6 जनवरी को ब्लाक मुख्यालय में चक्काजाम


कांकेर :- जिला कांग्रेस कमेटी की प्रबंधकारिणी समिति की बैठक में किसानों के एकएक दाने धान की खरीदी करने, फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा प्रदान करने, रावघाट थाना क्षेत्र के ग्राम निबरा निवासी सनऊराम की फर्जी मुठभेड़ बता कर हत्या करने वाले रावघाट थाना प्रभारी एवं अन्य पुलिस कर्मचारियों के विरूद्ध हत्या का मामला दर्ज करने, व ईनामी नक्सली बता कर सिताय बाई व अन्य सहित आदिवासी ग्रामीण को गिरफ्तार कर प्रताडि़त करने आदि मुद्दों को लेकर 6 जनवरी को जिले के समस्त ब्लाक मुख्यालय में अपरान्ह 2 से 3 बजे तक सांकेतिक एक धण्टें का जक्काजाम करने का निर्णय लिया गया।
जिला कांग्रेस की बैठक में कांग्रेसजनो ने कहा कि जिले में वर्षा के कारण किसानों के फसलों का नुकसान हुआ हैं, किन्तु लेम्प समिति द्वारा उस धान को रिजेक्ट किया जा रहा हैं, जिसके कारण किसान अपने कर्ज पटाने की स्थिति में नही हैं। प्रदेश सरकार किसानों के फसलों का हुए नुकसान का मुआवजा भी नही दे रही हैं। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने इस बात पर भी चिंता जताई कि जिले में पुलिस आदिवासियों को प्रताडि़त कर रही हैं, कहीं पर फर्जी मुठभेड़ दर्शाया जा रहा हैें इसके विरूद्ध आवाज उठाने वाले परिजनों को भी पुलिस ईनामी नक्सली घोषित कर गिरफ्तार कर रही हैं।
जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश तिवारी ने जिले के कहा कि नवंबर माह में सनऊराम की पत्नि ने कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से रावघाट थाना प्रभारी के विरूद्ध शिकायत कर फर्जी मुठभेड़ की जांच की मांग की थी। कलेक्टर ने दण्ड़ाधिकारी जांच के आदेश दिये थे। सिताय बाई एवं अन्य ग्रामीणों को ईनामी नक्सली घोषित कर उन्हे गिरफ्तार कर लिया गया हैं। अगर वे लोग पूर्व से ही ईनामी नक्सली थे तो जब सिताय बाई व अन्य ग्रामीण कलेक्टर एवं एसपी के पास शिकायत करने आये तो उन्हे गिरफ्तार क्यों नही किया गया। ऐसे अनेकों फर्जी मामले बना कर आदिवासियों को पुलिस के द्वारा प्रताडि़त करने का काम किया जा रहा हैं। जिसका कांग्रेस विरोध करेगी।
बैठक को जिला कांग्रेस के महामंत्री मानक दरपट्टी, आशीष दत्तराय, बिरेश ठाकुर, कांति नाग, सियो पोटाई, थानसिंह नरेटी, भुनेश्वर नाग, बसंत यादव, धर्मेन्द्र नेताम, नरोत्तम पटेल, परदेशी निषाद, अखिलेश चंदेल ने संबोधित किया। बैठक में विशेष रूप से नगर पालिका अध्यक्ष पवन कौशिक, उपाध्यक्ष मनोज जैन, प्रदेश प्रतिनिधि दिलीप खटवानी, जितेन्द्र सिंह ठाकुर, पार्षद यासीन कराणी, विजय यादव, क्ष्णकुमार अत्री, मकबुल खान, महिला कांग्रेस अध्यक्ष स्वर्ण लता सिंह, झमित जैन, शहर अध्यक्ष नरेश बिछिया, सुशीला देव, ज्योति साहू, वरलक्ष्मी ब्रह्मम, पूजा बोरकर, तरेन्द्र भंडारी, ओम प्रकाश गिड़लानी, धमेन्द्र मेहता, पद्मा चन्द्राकर, इसहाक अहमद, राजेश शर्मा, जितेन्द्र मोटवानी, पवन ठाकुर, ललित सिंह ठाकुर, तुषार ठाकुर, द्वारका प्रसाद दुगा,नन्दकुमार देवांगन, महेन्द्र यादव, जितेन्द्र शर्मा, उमेश साहू, मतीन खान, सुरेश सोनी आदि उपस्थित थे।

सोमवार, 22 नवंबर 2010

प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन करने का निर्णय


कांकेर :- जिला कांग्रेस के द्वारा किसानों को मुआवजा व बोनस प्रदान करने, स्थानीय बेरोजगारों को शासकीय नौकरी देने एवं प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरोध में 26 दिसंबर 10 को जिला मुख्यालय कांकेर में विशाल प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया हैं तथा बैठक में  नरहरपुर नगर पंचायत के संपन्न होने वाले चुनाव के संबंध में रणनीति तैयार की गई। 
जिला कांग्रेस की बैठक में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को ब्लाक स्तर पर प्रदेश सरकार के विरोध में प्रदर्शन करने 30 नवंबर तक ब्लाक में बैठक आयोजित करने के निर्देश दिये गये। किसानों की धान खरीदी सही तरीके से हो इसके लिए प्रत्येक लेम्पसवार कांग्रेस की निगरानी समिति का गठन करने का निर्णय लिया गया। सरकार के द्वारा जिले के किसानों को अतिवृष्टि के कारण हुए नुकसान का मुआवजा प्रदान करने एवं प्रति क्विंटल धान का 270 रू. बोनस देने तथा प्रदेश सरकार के द्वारा गठित बस्तर डेव्लपमेन्ट ग्रुप में लिये गये निर्णय अनुसार स्थानीय बेरोजगारों को शासकीय नौकरी प्रदान नही किये जाने पर जिला स्तरीय विशाल प्रर्दशन करने का निर्णय कांग्रेस की बैठक में लिया गया। नगर पंचायत नरहरपुर के चुनाव हेतु जिला कांग्रेस कमेटी के द्वारा बसंत यादव, रामनारायण सिंहा, पार्षद रमेश गौतम एवं जिला पंचायत सदस्य थानसिंह नरेटी को पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया। 
जिला कांग्रेस की बैठक में अध्यक्ष राजेश तिवारी, पूर्व विधायक शिव नेताम, दिलीप खटवानी, जितेन्द्र सिंह ठाकुर, मनोज जैन, दिनेश जायसवाल, नरोत्तम पटेल, नरेश बिछिया, निशा मेहता, स्वर्णलता सिंह, झमित जैन, रामनारायण सिन्हा, रमेश गौतम, धर्मेन्द्र मेहता, परदेशी निषाद, तरेन्द्र भंडारी, मनराखन मरकाम, इसहाक अहमद, विजय यादव, कृष्ण कुमार अत्री, मांडवी दीक्षित, ओमप्रकाश गिड़लानी, बसंत यादव, जितेन्द्र मोटवानी, कृष्णा नायक, कैलाश खत्री, पुरषोत्तम पाटिल, चन्द्रकांत धु्रवा, कुन्दन मरकाम, रामकरण कुंजाम, बाबूलाल साहू, ज्योति साहू, सरस्वती नायर, हिम्मत स्वर्ण, नन्दकुमार देवांगन, खम्मन बैरागी आदि पदाधिकारी उपस्थित थे।

रविवार, 21 नवंबर 2010

शुक्रवार, 19 नवंबर 2010

इंदिरा गांधी जी की जयंती पर पुण्य स्मरण


कांकेर :- पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी की जयंती के अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी कांकेर के द्वारा गांधी उद्यान में आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेसजनो ने श्रीमती गांधी के छाया चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर पुण्य स्मरण किया।
इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश तिवारी ने कहा कि श्रीमती गांधी ने देश के गरीबों के उत्थान के लिए बीस सूत्रिय कार्यक्रम लागू किए। आदिवासी क्षेत्र के विकास के लिए अलग से धनराशि उपलब्ध कराई। आदिवासियों के लिए उनके मन में अथाह प्रेम था। बस्तर के आदिवासी आज की श्रीमती गांधी को इंदिरा माता के रूप में याद करते हैं।
इस अवसर पर पूर्व विधायक शिव नेताम, नपा उपाध्यक्ष मनोज जैन, प्रदेश प्रतिनिधि दिलीप खटवानी, महिला कांग्रेस अध्यक्ष स्वर्णलता सिंह, झमित जैन, पार्षद रमेश गौतम, विजय यादव, आशीष दत्तराय, कांतिनाग, सियो पोटाई, सुशीला देव, नरेश ठाकुर, बलाई बोस, लक्ष्मणपुरी गोस्वामी, नरोत्तम पटेल, नरेश बिछिया, ओमप्रकाशस गिड़लानी, इसहाक अहमद, आशा निषाद, ललित सिंह ठाकुर, वरलक्ष्मी ब्रह्मम, चन्द्रप्रकाश चतुर्वेदी आदिकार्यकर्ता उपस्थित थे।

शनिवार, 13 नवंबर 2010

के.एस. सुदर्शन के विरूद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज हो

 आरएसएस के पूर्व प्रमुख के. सुदर्शन ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के विरूद्ध अत्यंत ही अशोभनीय एवं आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते हुए देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्रीमती इंदिरा गांधी एवं स्व. राजीव गांधी की हत्या का षड़यंत्र रचने एवं सीआईए का एजेंट बताया है। जिला कांग्रेस कमेटी ऐसे वक्तव्य की घोर निन्दा करते हुए आरएसएस के पूर्व प्रमुख के. सुदर्शन के विरूद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज कर तत्काल गिरफ्तार करने की मांग करती हैं। आरएसएस के सदस्य जिसने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या की थी, जिस संस्था से जुड़े सदस्य देश में आतंकवादी घटनाओं में शामिल होकर देश को तोड़ने का काम कर रहे हैं। जिस संस्था के लोग देश में धर्म के नाम पर बांटने का काम कर रहे हैं। ऐसी संस्था के पूर्व प्रमुख ने अनर्गल, अशोभनीय भाषा का प्रयोग करके अपनी संस्था का असली चरित्र उजागर कर दिया हैं। आरएसएस के लोग हमेशा भड़काऊ वक्तव्य देकर देश में अस्थिरता फैलाने का काम करते हैं। ऐसी संस्था पर तत्काल प्रतिबंध लगाना चाहिए।

शनिवार, 6 नवंबर 2010

कांग्रेस के ब्लाक एवं जिला अध्यक्षों का सम्मेलन 8 फरवरी 2009 नई दिल्ली

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के द्वारा 8 फरवरी 2009 को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रदेश भर के ब्लाक एवं जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों का सम्मेलन आयोजित किया गया था। सम्मेलन में श्रीमती  सोनिया गांधी के उद्घाटन भाषण के बाद प्रथम वक्ता के रूप में छत्तीसगढ़ से मुझे आमंत्रित किया गया था। 
मेरे जीवन के अविस्मरणी क्षणों में 8 फरवरी 2009 का दिन था, जब मैने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री राहुल गांधी एवं प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह एवं देश के दिग्गज कांग्रेस नेताओं व पूरे देश के कांग्रेस कार्यकर्ताओं के समक्ष भाषण करने का सौभाग्य हासिल हुआ। 
मेरे भाषण को सबने सराहा। भाषण समाप्त होने के बाद बड़े बड़े नेताओं ने मुझे शाबासी दी। मुझे तसल्ली हुई कि मैने पार्टी के भीतर अपनी बातों को बेबाकी के साथ रखा। 
उसी अवसर के छाया चित्र एवं विडियो








बुधवार, 3 नवंबर 2010

कांग्रेसजन सोनिया गांधी की नसीहतों का पालन करें


नई दिल्ली: अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने चौथी बार कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने के बाद कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को नसीहत देते हुए कहा है कि वे सादगी का जीवन बिताएं। सोनिया गांधी ने नक्सलवाद, महंगाई जैसी समस्याओं के प्रति चिंता भी जताई। साथ ही कांग्रेसजनो से कहा कि उन्हे विभिन्न पदों में मनोनयन का अधिकार तो प्रदान कर रहे हैं किन्तु इससे कुछ लोग छुट सकते हैं, इससे उन्हे नाराज होने की जरूरत नही है। वे कुछ इंतजार भी करे उन्हे इंतजार का फल अवश्य मिलेगा। 
श्रीमती सोनिया गांधी ने विपक्षी पार्टी के साथ सहयोगी पार्टीयों को भी कहा कि पार्टी के द्वारा समझौता करने का यह मतलब नही है कि पार्टी अपनी जमीन छोड़ देगी। पार्टी जमीनी स्तर पर कार्य करती रहेगी। 
श्रीमती सोनिया गांधी ने नक्सली आतंकवाद के बारे में चिंता करके यह जता दिया है कि पार्टी छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्योें मंे नक्सलवाद की बढ़ रही गतिविधियों से अनजान नही है। अपनी चिंता जता कर सोनिया ने केन्द्र सरकार को इस समस्या से निपटने के लिए एक प्रकार से अगाह भी किया हैं। 
श्रीमती सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं को सादगीपूर्ण जीवन जीने की सलाह दी है। किन्तु पार्टी के ही बड़े नेता इसका पालन नही करते। पार्टी में अनुशासनहीनता भी काफी बढ़ी है और इसके लिए भी पार्टी के बडे़ नेता ही जिम्मेदार हैं। श्रीमती गांधी के नसीहत का पालन कांग्रेस के बड़े नेता करने लगें तो निश्ंिचत रूप से पार्टी का उद्धार होगा। आज कांग्रेस में सबसे बड़ी चिंता अनुशासनहीनता की हैं। 
श्रीमती सोनिया गांधी के द्वारा अधिवेशन में दिये गये भाषण से निश्चिंत रूप से कांग्रेस के आम कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा हैं। कांग्रेस पार्टी में श्रीमती सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी ही मुख्य आकर्षण का केन्द्र बिन्दु हैं एवं पार्टी की जान हैं। इनके दम पर ही पार्टी टिकी हुई हैं। इन दोनो नेताओं के त्याग एवं सादगी पूर्ण जीवन का कांग्रेसजनों को अनुसरण करना चाहिए।

रविवार, 31 अक्तूबर 2010

प्रियदर्शनीय इंदिरा गांधी एवं लौह पुरूष पटेल का नमन

कांकेर:- भारत की पूर्व प्रधानमंत्री प्रियदर्शनीय स्व. इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि एवं लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर जिला कांग्रेस कमेटी के द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेसजनों ने महान नेताओं को अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित कर नमन किया। गांधी उद्यान में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित कांग्रेसजनों ने स्व.इंदिरा गांधी एवं सरदार वल्लभ भाई पटेल के छाया चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर पूर्व मंत्री शिव नेताम ने कहा कि दोनो महान नेता देश के लिए जिए एवं देश हित में अपने प्राणों की आहूती दे दी।
जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश तिवारी ने कहा कि स्व.इंदिरा जी ने देश की एकता एवं अखंडता के लिए अपना सर्वस्व निछावर किया है। बाल्यकाल से ही इंदिरा जी स्वाधीनता आन्दोलन में कूद पड़ी थी। वे देश के लिए पैदा हुई और देश के लिए ही अपना बलिदान दे दिया।
 श्री तिवारी ने कहा कि आजादी के बाद विभिन्न राज्यों का शक्ति के साथ भारत में विलीनीकरण करने का काम सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया था इसी कारण उन्हे लौह पुरूष की उपाधी मिली थी।
कार्यक्रम में नगर पालिका अध्यक्ष पवन कौशिक, उपाध्यक्ष मनोज जैन, आशीष दत्तराय, प्रदेश प्रतिनिधि जितेन्द्र सिंह ठाकुर, दिलीप खटवानी, शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेश बिछिया, महिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष स्वर्णलता सिंह, शहर अध्यक्ष झमित जैन,  वरलक्ष्मी ब्रम्हम, इसहाक अहमद, राजेश शर्मा, लक्ष्मणपुरी गोस्वामी, सरस्वती नायर, ज्योति साहू, महेन्द्र यादव, रोशन आरा, निर्मल देवनाथ, यास्मीन खान आदि उपस्थित थे।

बुधवार, 27 अक्तूबर 2010

राहुल के बारे में अमर्यादित भाषा का प्रयोग करने वाले नेता को मौन श्रद्धांजलि

राजनीति में सस्ती लोकप्रियता पाने व खबरों मे बने रहने के लिए नेताओं के द्वारा अपने राजनैतिक विरोधियों के बारें में हल्की एवं ओछी भाषा का प्रयोग किया जाना एक शगल बनता जा रहा हैं। बिहार विधानसभा चुनाव के चुनावी सभा में जदयू नेता शरद यादव के द्वारा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री राहुल गांधी के बारे में की गई टिप्पणी की जितनी भी निन्दा की जाए वह कम हैं। श्री राहुल गांधी को गंगा में बहाने की बात करने वाले ऐसे नेता को ही किसी गंदे नाले में विसर्जित कर देना चाहिए।
ऐसा कोई पहली बार नही हो रहा है, इसके पहले भी विरोधी दल के नेता अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी, श्री राहुल गांधी एवं अन्य कांग्रेस नेताओं के बारे में ऊलजलूल टिप्पणी कर चुके हैं। विशेष कर भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतिन गटकरी, उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जैसे अनेक नेता कांग्रेस के दोनो नेताओं के बारे में अपने दिल की भड़ास निकाल चुके हैं। ये लोग श्रीमती सोनिया गांधी एवं श्री राहुल गांधी जैसी लोकप्रियता देश की जनता के बीच हासिल नही कर पाए हैं। जिसकी कसक उनके दिलों में जरूर उठती होगी यही कारण है कि गाहे बगाहे ऐसे नेता हल्की टिप्पणी करके मिडिया में प्रचार पा जाते हैं और बाद में अपने बयान से ही मुकर कर कहते हैं कि उनकी जुबान गलती से फिसल गई।
देश में अनेक ऐसे नेता हुए है जो कुछ दिनों तक तक तो अपनी भाषा के कारण खबरों में बने रहे, किन्तु बाद में वे लोग किस गंदे नाले के गटर में पड़े है उनका कोई अतापता भी नही हैं। ऐसे नेताओं को मौन श्रद्धांजलि अर्पित करना ही श्रेयष्यकर हैं।

महंगाई डायन खाय जात है

प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह एक ओर केन्द्र सरकार पर महंगाई पर नियंत्रण नही कर पाने का आरोप लगा कर अपने सभाओं में पिपली लाईव का गाना महंगाई डायन खाय जात है गाते हैं। दूसरी ओर यात्री किराया में 17.5 प्रतिशत की वृद्धि कर आम जनता के ऊपर बोझ डालने का काम किया हैं। डा. रमन सिंह वास्तव में आम जनता को महंगाई से राहत दिलाना चाहते तो पेट्रोल एवं डीजल में राज्य सरकार के द्वारा लगाये जा रहे 25 प्रतिशत टैक्स में कमी कर यात्री बस किराये में वृद्धि को रोक सकते थे। किन्तु ऐसा ना कुछ करते हुए केन्द्र सरकार के ऊपर आरोप लगा कर अपनी जिम्मेदारी से इतिश्री मान बैठे हैं। एक तो वैसे भी यात्री बसों के मालिक राज्य शासन के द्वारा निर्धारित किराये से ज्यादा ही लेते हैं, उस पर सरकार का कोई नियंत्रण नही हैं। यात्रियों के द्वारा शिकायत भी की जाती है तो उस पर कार्रवाई करने वाला कोई नही हैं।
डा. रमन सिंह पिपली लाईव का गाना गाना छोड़ दें क्योंकि बस किराये में वृद्धि के बाद आम जनता अब गा रही है कि रमन डायन खाय जात हैं। 

रविवार, 24 अक्तूबर 2010

कांग्रेस में कालिख की राजनीति

प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं केन्द्रीय राज्यमंत्री श्री व्ही. नारायण सामी के ऊपर कालिख फेकने की शर्मनाक घटना की जितनी भी निन्दा की जाए वह कम हैं। इस घटना से निःसंदेह पार्टी की छवि खराब हुई हैं एवं कांग्रेस के निष्ठावान कार्यकर्ताओं में ऐसे कृत्य करने वालों को संरक्षण देने वाले नेताओं के प्रति घृणा की भावना जागृत हुई हैं। 
राजनीति में व्यक्तिगत स्वार्थों की पूर्ति के लिए राजनीतिक पद हासिल करने की होड़ लगी हैं, पार्टी के प्रति निष्ठा के स्थान पर व्यक्ति के प्रति निष्ठा जताने में लोग ज्यादा लग गये हैं। इसके लिए व्यक्ति नीचे गिर कर भी पद प्राप्त करने के लिए निकृष्ट हरकत करने से भी नही चुक रहा हैं। पार्टी के बडे़ बनने वाले तथाकथित नेता अपने स्वार्थों की पूर्ति करने के लिए अपने समर्थकों को मोहरा बना कर इस्तमाल कर रहे हैं। 
बस्तर संभाग के एक नेता जिसकी कभी पार्टी में तूती बोला करती थी, दलबदल करके अपनी प्रतिष्ठा को जनता के बीच समाप्त कर चुके हैं। उस नेता के एक समर्थक जो उनके साथ ही दलबदल करते रहा हैं ने प्रदेश कांग्रेस का सदस्य बनने के लिए इस घृणित कार्य को अंजाम दिया हैं। उक्त नेता के पुत्र ने लोकसभा चुनाव में पार्टी टिकट नही मिलने पर कांग्रेस महासचिव व्ही. नारायण सामी  का पुतला फंूक चुका हैं। लोकसभा चुनाव में पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी को हराने के लिए पूरा परिवार प्रण प्राण से एकजूट होकर कार्य किया। कांकेर नगर पालिका परिषद के चुनाव में अपने पसंद के प्रत्याशी को टिकट दिलाने में असफल रहने पर खुलेआम एक निर्दलीय प्रत्याशी को समर्थन दिया। प्रदेष कांग्रेस कमेटी के सदस्य बनाने एवं जिला कांग्रेस का पद दिलाने के लिए उन्हे सिर्फ अपना परिवार एवं कालिख की राजनीति करने वाले व्यक्ति की ही सिफारिश की। 
क्या कांग्रेस में ऐसे पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलग्न लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी ?
पार्टी में अनुशासन की दरकार
कांग्रेस के राष्ट्रीय नेताओं को आत्मचिंतन करने का समय आ गया हैं कि पार्टी को अपने स्वार्थों के लिए इस्तेमाल करने वाले नेताओं एवं कार्यकर्ताओ के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई कर ऐसे लोगों को पार्टी से निकाल बाहर करे। क्योंकि वे लोग पार्टी के भीतर रह कर पार्टी को खोखला करने में लगें हैं। 

कांकेर गढ़िया महोत्सव का सफल आयोजन

08 अक्टूबर से 16 अक्टूबर 2010 तक शारदेय नवरात्र पर्व के अवसर पर कांकेर गढ़िया महोत्सव के सफल आयोजन में प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग करने वालों के प्रति श्रीश्री योगमाया कांकेश्वरी देवी ट्रस्ट के अध्यक्ष राजेश तिवारी ने आभार व्यक्त किया हैं।
कांकेर गढ़िया महोत्सव के सफल आयोजन का यह पंचम वर्ष हैं। गढ़िया महोत्सव के आयोजन से कांकेर की एक विशिष्ठ पहचान बनते जा रही हैं। सभी वर्गों का सहयोग इस आयोजन को मिलते आ रहा हैं। छुटपुट विरोध के स्वर भी मुखरित होते हैं, बावजूद उसके गढ़िया महोत्सव का आयोजन सफलतापूर्वक होते आ रहा हैं।
भगवान से प्रार्थना है कि जो लोग गढ़िया महोत्सव के आयोजन का विरोध करते हैं उन्हे सदबुद्धि प्रदान करें।

शनिवार, 23 अक्तूबर 2010

नक्सल समस्या : रमन सरकार की नीतियां जिम्मेदार


कांकेरः- छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह द्वारा म.प्र. के पूर्व मुख्यमंत्री एवं अखिल  भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री दिग्विजय सिंह के ऊपर लगाये गये आरोपो की निंदा करते हुए जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश तिवारी कहा कि कोई अंहकारी व्यक्ति की ऐसे तुच्छ एवं घटिया आरोप किसी पर लगा सकता है। छत्तीसगढ़ में बढ़ती नक्सल समस्या के लिए अंधेर नगरी चौपट राजा की तर्ज पर कार्य कर रही रमन सरकार की नीतियां ही जिम्मेदार हैं। 
जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश तिवारी ने कहा कि श्री दिग्विजय सिंह जैसे नेताओं की प्रासंगिता हमेशा पूरे देश में बनी रहेगी। नक्सल समस्या वहां उत्पन्न होती है जहां भ्रष्टाचार एवं शोषण के कारण विकास कार्य अवरूद्ध हो जाते हैं। दिग्विजय सिंह ने इस समस्या के उत्पन्न होने के कारणों को जानते हुए ही पूरे देश में सर्वप्रथम पंचायती राज का कानून म.प्र. में लागू किया एवं पंचायतों को पूरे अधिकार देते हुए विकास के कार्य उनके माध्यम से प्रारंभ कराया था। दिग्विजय सिंह के कार्यकाल में ही पूरे बस्तर संभाग में प्रत्येक गांवों में सड़कों का जाल बिछा था, प्रत्येक गांवों में स्कूल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, आंगनबाड़ी, स्कूल भवन, पंचायत भवन बनाये गये। उनके कार्यकाल में ही बस्तर की विशालता को देखते हुए तीन जिले बनाये गये। सत्ता का विकेन्द्रीकरण कर गांव की सत्ता स्थापित की गई थी। पंचायतों को शिक्षाकर्मी, पंचायत कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी आदि भर्ती के अधिकार प्रदान किये थे जिससे स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार मिल सके। बस्तर के स्थानीय लोगों की आर्थिक स्थिति मजबूत हो सके इसके लिए उनके शासनकाल में सहकारी समिति के माध्यम से वनोपज खरीदी, माईनिग की खदाने एवं आबकारी के ठेके सहकारी समिति को देने की नीति बनाई। 
मुख्यमंत्री रमन सिंह ने आज तक नक्सलवाद से निपटने के लिए कोई नीति ही तैयार नही कि है बल्कि उनकी नीति ऐसी रही है जिससे नक्सलवाद बढ़े हैं। जिसके कारण 700 से भी ज्यादा गांव खाली हो गये एवं लाखों लोगों को शरणार्थी के रूप में जीवन यापन करना पड़ा और हजारों लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। रमन सिंह ने पंचायतों के सारे अधिकार खत्म कर अधिकारियों को हस्तांतरित कर दिये ताकि उनके माध्यम से भ्रष्टाचार किये जा सके। बस्तर के स्थानीय युवा बेरोजगार भटकते हुए नक्सलवाद की ओर बढ़ रहे हैं एवं बाहरी व्यक्ति से पैसे वूसल कर उन्हे बस्तर में नौकरी दी जा रही हैं। केन्द्र सरकार की योजनाओं से प्राप्त राशि में घोटाला किया जा रहा है उसका उदाहरण कांकेर जिले का रोजगार गारंटी योजना घोटाला, शिक्षाकर्मी भर्ती घोटाला, पुलिस बल भर्ती में पैसे की वसूली। ये सारे पैसे भाजपा नेताआंे व उनके समर्थक व्यापारियों की जेब में जा रहे है जिसके कारण आज अनेक भाजपा नेता करोड़ों की संम्पत्ति के मालिक बन बैठे हैं।