गुरुवार, 27 जनवरी 2011

सड़क खोदकर करेंगे खेती


मुआवजे की मांग को लेकर किसानों ने प्रशासन को दिया एक सप्ताह का अल्टीमेटम
ग्राम पंडरीपानी से बरदेभाटा मार्ग के मध्य मिनी बाइपास सड़क बनाई जा रही है। दो वर्ष पूर्व प्रारंभ हुए इस सड़क निर्माण में बड़ी संख्या में बरदेभाटा वार्ड तथा ग्राम पंडरीपानी के किसानों की जमीन उपयोग में ली गई तथा उसमें खड़े हरे भरे दर्जनों पेड़ों को काट दिया गया। प्रशासन ने जमीन अधिग्रहण की सूचना तो निकली लेकिन बिना अधिग्रहण किए सड़क का निर्माण कार्य प्रारंभ करवा दिया गया। दो वर्षों से चल रहा निर्माण कार्य अब पूर्ण होने को है लेकिन किसानों की भूमि के अधिग्रहण तथा मुआवजे का कोई अतापता नहीं है।

कई बार मुआवजे की मांग कर चुके किसानों ने सोमवार को कलेक्टर से भेंट कर तत्काल जमीन अधिग्रहण कर मुआवजा प्रदान करने की मांग की। किसानों ने कहा कि सप्ताह भर में कार्रवाई नहीं हुई तो वे सड़क खोद कर खेती कार्य शुरू कर देंगे। कलेक्टर को एनके खाखा को सौंपे ज्ञापन में किसानों ने कहा कि सेतु विभाग द्वारा पंडरीपानी बरदेभाटा के मध्य पुल तथा सड़क का निर्माण किया जा रहा है। जिन किसानों की भूमि में निर्माण कार्य चल रहा है उसके अधिग्रहण की कार्रवाई तथा किसानों से सहमति लिए बिना ही कार्य प्रांरभ कर दिया गया। संबंधित भूमि में खड़े 55 पेड़ों को भी काट दिया गया। शिकायत पुलिस में भी की गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। दो वर्षों से किसान जमीन तथा वृक्षों के मुआवजे के लिए भटक रहे है। विभाग ने पूर्व में भूमि अधिग्रहण की घोषणा की थी लेकिन बाद में उसमें परिवर्तन कर दिया गया। वर्तमान में कुछ किसानों की अधिक जमीन निर्माण के नाम पर ले ली गई जिसका पुन: नाप होना चाहिए। मुआवजे की कार्रवाई के लिए किसानों ने कलेक्टर को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि एक सप्ताह के अंदर कार्रवाई नहीं हुई तो वे अपने भूमि में बनी सड़क को खोद देंगें तथा उसमें कृषि कार्य प्रारंभ कर देंगें जिसकी जवाबदारी जिला प्रशासन की होगी। इस दौरान जिला कार्यालय में प्रभावित किसानों में विष्णुनाग, बृजलाल, छबिलाल, पंचम मंडावी, संतराम नाग, गोदावरी, जानकी बाई, बिसवासा के अलावा जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष राजेश तिवारी, तरेंद्र भंडारी आदि मौजूद थे।

1 टिप्पणी:

  1. vikas ko rokna ...????
    sadak khod kar kheti karna thik baat nahi hai
    bhaiya ham bhi tax dete hai or yeh hamara hi paisa hai ...
    shayad yeh rahul ji bhi pasand nahi kare ..
    vikas ko rokiye mat

    उत्तर देंहटाएं